ए जिंदगी

खुद के काबिल बनने का एक मौका तो दे दे ऐ जिन्दगी

जिने का एक साहारा तो दे दे ऐ जिंदगी

ख्वाहिशों को मुकम्मल करने का एक इशारा तो दे दे ऐ जिंदगी

ना मुमकिन है उसका मेरा साथ उसे मुमकिन बनाने का खुशनुमा मौसम तो दे दे ऐ जिंदगी

अधुरे ख्वाबो को पुरा होने का अहसांस तो दे दे ऐ जिंदगी

तम्मनाओं को बेहिस्साब बख्शीशे तो अता फरमा  दे ऐ जिंदगी

अधुरे लम्हों को एक मुकम्मल मुलाकात अता फरमां दे
ऐ जिंदगी

इस बेरुखी भरी जिंदगी में कोई प्यार मोहब्बत का तराना तो लौटा दे ऐ जिंदगी

Write by
#मोना
Website www.monakhaan.com

Twitter @momeenabano
Posted on 21,january,2018

Share on Google Plus

About mona khaan com

Hi I am Mona Khan. Am a blogger and I write about life,love poetry true story Urdu poems and friendship and also wrote about importance of a girl child in humans life.It was liked by many people.Am looking forward to write more inspirational blogs by which I can give a better shape to the thoughts of our society...